Poetry

मेरा कमरा और गिटार By Ashish Prakash

Know poet

कुछ साल हुए कुछ धूल सी है
अब एक ख़ामोशी शूल सी है

कमरा ख़ाली ख़ाली है
एक बाग़ बिना किसी माली है

न हवा कोई न बहार कोई
एक शिथिल सा पड़ा गिटार कोई

एक कोने में यूँ बैठा सा
कोई दोस्त पुराना रूठा सा

कई साल हुए था अकेला वो
कई बार बहुत कुछ झेला वो

कई रात जगा मेरे साथ में वो
रोया भी मेरे जज़्बात में वो

कई दोस्त पुरानो को जाने
उनके भी सुख दुःख पहचाने

कई महफ़िल के हम साथी थे
हर बेगाने के बाराती थे

कई जाम भी हमने साथ लिए
और एक जैसे हालात लिए

हम एक दूजे के पूरक थे
हम दो थे पर हमसूरत थे

किसी लड़की को जब पटाया था
ये यार बहुत काम आया था

फिर वक़्त बढा मैं भी न रुका
संघर्ष उठा मैं भी न झुका

एक दौड़ हुई बस दौड़ पड़ा
गिटार वहीं पर मौन खड़ा

अब उम्र चली कुछ धूल दिखिं
कुछ ज़ुल्फ़ सफ़ेद और भूल दिखीं

न महफ़िल ना अब यार कोई
न दोस्त कोई न प्यार कोई

अब वो भी सच में अकेला था
अब कहाँ कोई यहाँ मेला था

एक कमरे में दो यार थे बस
पड़े कोनो में बेकार थे बस

चलो आज फिर तुम्हे उठाता हूँ
कोई धुन फिर नयी सजाता हूँ

मत सोचना कि बस गिटार है तू
मेरा साथी सच्चा यार है तू

Related Articles

11 thoughts on “मेरा कमरा और गिटार By Ashish Prakash”

  1. I simply want to say I am just new to weblog and honestly loved your blog. More than likely I’m going to bookmark your blog post . You certainly have incredible well written articles. Bless you for sharing your web-site.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Enter Captcha Here : *

Reload Image

Close